Not a Mere Update!

Covered by NDTV: Matching Policy With Reality Article on Rediff.com: A Young Man’s Crusade Article on Youth Ki Awaaz: They Warned Him From Entering This Village Article on The Alternative: What Sustainability Could Mean ‘Go for the broke. Always try and do too much. Dispense with safety nets. Take a deep breath before you begin […]

Read more "Not a Mere Update!"

विविधता की जगह

This article was first published as an opinion piece in a national daily Jansatta. Reproducing the original article here. I had written this piece over an year ago. Reality has not changed since then. जिन आदिवासी समुदायों की भाषाएं विलुप्ति के कगार पर हैं, उनके बच्चों को आज एक दोराहे पर खड़ा कर दिया गया […]

Read more "विविधता की जगह"

साहेब, आप सच बयां करते हैं

साहेब आप सच बयां करते हैं, बलात्कार, मास मॉलेस्टशन में गलती लड़कियों की होती है, ‘शक्कर गिरेगी तो चींटी ज़रूर आएगी’ ‘खूबसूरत औरतें हैं प्रियंका गाँधी से भी कई’ संविधान सभा में तो यूँ ही गैर बराबरी पर हाय तौबा हुई थी l यदा यदा ही धर्मस्य की तर्ज पर, मर्दों ने कसम खाई है, […]

Read more "साहेब, आप सच बयां करते हैं"

अहम् ब्रह्मास्मि?

करवटें बदलते बदलते, जब शरीर नींद मांगे, पर तुम जागना चाहो, शरीर में खुद को प्रेत सा महसूस करोगे। कुएं वाले इमली के पेड़ पर प्रेत थे, ऐसा नानी ने बचपन से कहा था, झूठ ने प्रेत से तो पता नहीं, बिना मेढ़ वाले सच में गिरने से ज़रूर बचा लिया था। इमली का पेड़ […]

Read more "अहम् ब्रह्मास्मि?"