अचकचाहट

बहती झील सा हो मन
है, झील बनी नदी की सतह की तरह !

और मैं नदी की लहरों से परेशान
नदी का सांप !

बहुत धैर्य , समर्पण और तड़प के बाद
पहुंचा नदी किनारे
दो पल में ही लहरें फिर ले डूबी मुझे !

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s