पेन

दवात की स्याही सी ये रात
मेरे मन को पेन की तरह काम में ले रही  है !

बेचारा पेन, न सो सके , न जग ही सके
जब “उसे” लिखना हो, तो पेन ,
वर्ना संभाले स्याही, हमें क्या !

हो रही है सुबह, आहिस्ता से
समझ में आ रही है पेन की कीमत
लिखना तो उसी से है

गलत  या सही !

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s